RII – BAATEIN USKI

RII – BAATEIN USKI Lyrics Letra:
कहाँ से शुरू करूं मैं बातें उसकी
ज़ुबानी याद हैं मुझे रातें उसकी
कहाँ से शुरू करूं मैं बातें उसकी
ज़ुबानी याद हैं मुझे रातें उसकी

ये सारा आसमां उसका ये सारी ज़मीं उसकी
और बीच में कहीं हवाओं सी मैं
ये सारा आसमां उसका ये सारी ज़मीं उसकी
और बीच में कहीं हवाओं सी मैं

किस्मत कहूँ या फिर ऐसा तो कुछ लिखा
उसका मेरा करीब आके खो जाना
हमने तो वक्त को रोका बहोत मगर
उसका मेरा नसीब था बिखर जाना

होना था हुआ वो जाना था गया वो
लाखों पल ख़ुशी के दे गया
मैं लड़ी खुदा से पर नहीं झुका वो
वो भी अपनी ज़िद पे अड़ गया..

ये …

%d blogueiros gostam disto: